भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे रोम—रोम में ऊषा छाई ! / विजयदान देथा 'बिज्‍जी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे रोम-रोम में ऊषा छाई!

सकल विश्व देखा करता है
असीम अम्बर के मानस पर छाकर
रजनी की श्यामल चादर को दूर हटा
ऊषा ! कोमल किसलय पातों को
सागर सरिता की चंचल लहरों को
वायु को रेशा-रेशा उज्ज्वल कर
समूची जगती का कण-कण
करती है ज्योतिर्मय!

फिर क्योंकर न हो
मुझको भी यह विश्वास अरे
कि मेरे युग-युग से घन आच्छादित
गहन अन्तरतम को आलोकित कर
ऊषा प्रेम-प्रकाश फैलाएगी!
इतनी तो मुझ को भी
दी मधुर आशा दिखलाई!

मेरे रोम-रोम में ऊषा छाई!