भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरे सिर पै बंटा टोकणी / खड़ी बोली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मेरे सिर पै बण्टा टोकणी,मेरे हाथ में लेज्जू डोल
मैं पतळी –सी कामिनी , मेरे हाथ में लेज्जू डोल
एक राहे मुसाफ़िर मिल गया

-छोरी प्यासे को दो पाणी पिलाय

मैं परदेसी दूर का।

-छोरे ना मेरी डूबै डोलची

छोरे ना मेरा निवै सरीर

मैं पतळी –सी कामिनी …

-छोरे किसके हो तुम पावहणे

छोरे किसके हो लेवणहार ,

मैं पतळी –सी कामिनी ,…

-छोरी बाप तेरे का मैं पावहणा

छोरी तेरा हूँ लेवणहार ,

मैं पतळी –सी कामिनी ,…

-छोरे अब मेरी डूबै डोलची,

अब मेरा निवै सरीर

मैं पतळी –सी कामिनी …

-छोरी अब कैसे डूबै तेरी डोलची

छोरी अब कैसे निवैं सरीर ,

तू पतली-सी कामिनी

-छोरे डुबक-डुबक डूबी डोलची

छोरे तुड़ –मुड़ निवै सरीर,

मैं पतळी –सी कामिनी …