भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरो जीवन / रमेश क्षितिज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कसैलाई असल होला कसैलाई खराब होला
पढ्छौ भने मेरो जीवन यौटा सिड्डो किताब होला

कति सहेँ घाम पानी कस्तो भोगेँ जिन्दगानी
हाँसीहाँसी पिएँ कति विष भन्ने जानीजानी
अलिअलि आस होला धेरैधेरै सन्ताप होला
पढ्छौ भने मेरो जीवन यौटा सिड्डो किताब होला

कतिपल्ट बली भएँ कतिपल्ट सुली चढे
आदर्शले जीउँछु भन्दा खेदिएँ म कति लडेँ
कस्तोकस्तो भोग्नुप¥यो त्यसको कहाँ हिसाब होला
पढ्छौ भने मेरो जीवन यौटा सिड्डो किताब होला