भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरो बैँस / टङ्क वनेम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोत्र्याम्मै भएर
कच्याङकुचुङ मनहरू
स्वाभिमानको छाती
दहसतको घाँटी रेटेर
थुक्क ।
सान्थुङ्गे फूलको
नकच्चरो बैँसझैँ
किन फुलेको होला
युद्ध मैदानमा मेरो बैँस ?