भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेष-वृष तरनि तचाइन के त्रासन तें / ग्वाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेष-वृष तरनि तचाइन के त्रासन तें,
सीतलाई सब तहखानन में ढली है ।
तजि तहखाने गई सर, सर तजि कंज,
कंज तजि चंदन-कपूर पूर पली है ॥
ग्वाल कवि ह्याँ तें चंद में ह्वै चाँदनी में गई,
चाँदनी तें सोरा मिले जल माँहि रली है ।
सोरा जल हूं ते धसी ओरा, फिर ओरा तजि,
बोराबोर ह्वै करि हिमाचल में गली है ॥