भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेहनत से मिल गया जो सफ़ीने के बीच था / अता तुराब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेहनत से मिल गया जो सफ़ीने के बीच था
दरिया-ए-इत्र मेरे पसीने के बीच था

आज़ाद हो गया हूँ ज़मान-ओ-मकान से
मैं इक ग़ुलाम था जो मदीने के बीच था

अस्ल सुख़न में नाम को पेचीदगी न थी
इबहाम जिस क़दर था क़रीने के बीच था

जो मेरे हम-सीनों से बड़ा कर गया मुझे
एहसास का वो दिन भी महीने के बीच था

कम-ज़र्फि़यों ने ज़र्फ़ को मज़रूफ़ कर दिया
जिस दर्द में घिरा हूँ वो सीने के बीच था

हैं मार-ए-गंज मार के भी सब डसे हुए
तक़्सीम का वो ज़हर ख़ज़ीने के बीच था

तूफ़ान-ए-बहर-ख़ाक डराता मुझे ‘तुराब’
उस से बड़ा भँवर तो सफ़ीने के बीच था