भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेह मातो / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आभो ताकै
अटल रातो
मेह मातो
कुण बा’वै हळ
खेत में
कुण पुगावे भातो।

धरती बंजर
तन पिंजर
बादळ दिख्यां पांगरै
बादळ पण
नी लांघे हेमाळो
मोर भूलग्या
बरसाळो
कुंड उडीकै
बगतो परनाळो।