भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैंने वसन्त को / शील

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने वसन्त को मधु-रस दे
सिखलाया मधुपों को गाना
सिखलाया कलियों को मैंने
सौरभ बिखराना मुस्काना

मेरे जीवन की दुनिया में
संघर्ष विजय है हार नहीं
उठते भावों अरमानों का
कुछ भी है पारावार नहीं

मेरे मनमौजी जीवन में
है क्रान्ति, शान्ति का ताप नहीं
मेरी इस अडिग तपस्या में
कुछ पुण्य नहीं, कुछ पाप नहीं।