भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं अपने आसपास ही बिखर रहा था / विकास शर्मा 'राज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं अपने आसपास ही बिखर रहा था
ये सानिहा मुझे उदास कर रहा था

क़दीम आसमान हँस रहा था मुझ पर
नई ज़मीन पर मैं पाँव धर रहा था

मैं अलविदाअ कह चुका हूँ क़ाफ़िले को
मिरे वुजूद में ग़ुबार भर रहा था

हरी-भरी-सी मुझमें हो रही थी हलचल
मैं ख़ुश्क पत्तियों को जम्अ कर रहा था

तमाम मरहले मिरे लिए नए थे
मैं पहली बार हिज्र से गुज़र रहा था