भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं अपने पाँव / मनोहर बाथम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नैं अपने पाँव
कहाँ-कहाँ से बचाता
सारी ज़मीं है
ख़ून से लथपथ

पहले कीचड़ से
पैर बचाता था
अब
पाँव रखने को
कीचड़ ढूँढ़ता हूँ