भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं उजड़ा शहर था तपता था दश्त के मानिंद / फ़ुज़ैल जाफ़री

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं उजड़ा शहर था तपता था दश्त के मानिंद
तेरा वजूद की सैराब कर गया मुझ को

हर आदमी में थे चार आदमी पिन्हाँ
किसी को ढूँढने निकला कोई मिला मुझ को

है मेरे दर्द को दर-कार गोश्त की ख़ुश्बू
बहुत नहीं तेरी यादों का सिलसिला मुझ को

तेरे बदन में मेरे ख़्वाब मुस्कुराते हैं
दिखा कभी मेरे ख़्वाबों का आईना मुझ को