भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं कौन था / वीरू सोनकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साहस से पहले भय आया
और भय से पहले लोभ
सबसे अंत में मैं आया
और मैंने फैसला किया कौन जायेगा, कौन रुकेगा

फिर जो रुका, उसने तय किया
कि मैं कौन था!