भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं खेरे कै दुबिया मोरे साजन / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मैं खेरे कै दुबिया मोरे साजन हां
कि मैं खेर छोउि़ कहां जाऊं
ओही गली मोर सजना अइहीं
मैं चरन रहिउं लपटाय