भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं जब्हा सा हूँ उस दर-ए-आली-मक़ाम का / 'शोला' अलीगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं जब्हा सा हूँ उस दर-ए-आली-मक़ाम का
काबा जहाँ जवाब न पाए सलाम का

सिक्का रवाँ है किस बुत-ए-महशर-ख़िराम का
नक़्श-ए-क़दम नगीं है क़यामत के नाम का

क्या पास-ए-ग़ैर-ए-क़सद है गर क़त्ल-ए-आम का
इक मुर्दा दूर रख दो मसीहा के नाम का

ऐ रह-रवाँ-ए-मंज़िल-ए-मक़सूद मरहबा
चमका कलस वो रौज़ा-ए-दारूस-सलाम का

ख़ंजर सँभालिये प-ए-तस्लीम ख़म हैं हम
गर्दन जवाब ले के उठेगी सलाम का

ग़श कैसा मैं तो तर्ज़-ए-तकल्लुम पे मर गया
मूसा ने कुछ भी लुत्फ़ न पाया कलाम का

मुझ से हुआ है वादा-ए-रोज़-ए-जज़ा अभी
देते हो क्या जवाब अदू के पयाम का

ऐ ‘शोला’ कह दो बुलबुल-ए-ख़ुल्द-बरीं से अब
गुलदस्ता बाँध ले मेरे रंगीं कलाम का