भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं जब रिश्तों को लड़ते देखता हूं / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं जब रिश्तों को लड़ते देखता हूं
हवेली को उजड़ते देखता हूँ

न जाने क्यों मुझे लगता है , मैं हूँ
किसी को जब बिछड़ते देखता हूँ

पुरानी दास्ताँ में रोज़ तुम को
नए किरदार घड़ते देखता हूँ

कभी सीता हूँ अपने ज़ख़्म ख़ुद ही
कभी सीवन उधेड़ते देखता हूँ

कोई नाराज़गी है मेरी मुझ से
में ख़ुद को ख़ुद से लड़ते देखता हूँ