भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं तुमको न मिटने दूँगा ! / विजयदान देथा 'बिज्‍जी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊषे!
मैं तुमको न मिटने दूँगा

मेरे अन्तर से निकाला प्रेम-श्वास
बनकर वाष्प
बादल का धर अमिट रूप
कामी दिनकर को छा लेगा!

तुम्हारी लाली को
आरक्त बना रखने
दे अपने शोणित का प्रत्येक बिन्दु
कर विलीन समस्त जीवन अपना
तुम्हारी यौवन को
चिर आक्षय रखने
अपने यौवन का क्षय कर दूँगा!

ऊषे!
मैं तुमको न मिटने दूँगा!

मेरे अन्तर से निकला प्रेम-श्वास
बनकर वाष्प
बादल का धर अमिट रूप
कामी दिनकर को छा लेगा!