भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं न बनूँगा दादा जैसा / गिरिजादत्त शुक्ल 'गिरिश'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या कहती है माँ, दादा के
जितना बड़ा कभी हूँगा!
जो हो अपने को, उन जैसा
कभी न होने मैं दूँगा!
नहीं खेलते कभी खिलौने,
कलम चलाते रहते हैं!
क्या रखा है इन खेलों में,
हँसी उड़ाके कहते हैं!
और बता दो मेरी अम्माँ,
मुझे गोद लेगी कैसे!
सच कहता हूँ मैं न बनूँगा,
दादा हैं मेरे जैसे!