भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं न हिंदू न मुसलमान मुझे जीने दो / शाहिद कबीर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं न हिंदू न मुसलमान मुझे जीने दो
दोस्ती है मेरा ईमान मुझे जीने दो

कोई एहसाँ न करो मुझपे तो एहसाँ होगा
सिर्फ़ इतना करो एहसान मुझे जीने दो

सबके दूख-दर्द को बस अपना समझ कर जीना
बस यही है मेरा अरमान मुझे जीने दो

लोग होते हैं जो हैरान मेरे जीने से
लोग होते रहें हैरान मुझे जीने दो