भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं फैशन वाली बलम मोर बनिया / अवधी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मैं फैशन वाली बलम मोर बनिया
मैं फैशन वाली......

ऊँचा चउतरा औ नीची दुकानइया
मैं बेचू हल्दी बलम बेचे धनिया
मैं फैशन वाली.....

सासू मोर बेलईं ननद मोर सेकईं
मैं बैठी जेंऊँ बलम भरईं पनिया
मैं फैशन वाली.....

सास मोर मारईं ननद ललकारईं
मैं बैठी रोऊँ बलम लेईं कनिया
मैं फैशन वाली बलम मोर बनिया
मैं फैशन वाली.......