भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं भूली / तारादेवी पांडेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मैंने पंथ न पहचाना।
सखि, जाके धुँधले प्रकाश में अपना ही सब जाना,
प्रभु को भूली, कर्तब भूली,
बुद्धि विवेक सभी मैं भूली।
माया मोह नहीं एक भूली,
बन्धन ही में फूली।
मैं हूँ कौन? कहाँ से आई?
इस पर मैंने नहीं विचारा।
झूठे जग में केवल अपना,
ममता का ही पाश पसारा।
यह मेरा है, वह मेरा है,
इस भ्रम में ही अब तक फूली,
सच्चा पंथ बना दो आली,
अपने को भी जाती भूली।