भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं हूँ मेरी चश्म-ए-तर है रात है तन्हाई है / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं हूँ मेरी चश्म-ए-तर है रात है तन्हाई है
दर्द मेरा हम-सफ़र है रात है तन्हाई है

जुगनुओं से साथ चलने की गुज़ारिश कीजिए
हिज्र का लम्बा सफ़र है रात है तन्हाई है

फिर वही यादें वही आँसू वही आह-ओ-फ़ुग़ाँ
फिर वही दीवार-ओ-दर है रात है तन्हाई है

दोस्तों की भीड़ को मसरूफ़ियत में खो दिया
आज फ़ुर्सत बाम पर है रात है तन्हाई है

तुझ को पाने के जुनूँ में हम वहाँ तक आ गए
ख़ुद को अब खोने का डर है रात है तन्हाई है