भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं हूर परी बाँगर की / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मैं हूर परी बाँगर की, मन्ने फली खा लई सांगर की!

मेरी के बूझे भरतार

म्हने छोड़ न जइए, अपना कपटी दिल समझइए

ओ भर बुरा बनियाँ से प्यार


भावार्थ

--' मैं बाँगर की हूर हूँ । एकदम परी सरीखी लगती हूँ । मैं सींगरे की फलियाँ खा- खा कर पली हूँ । प्रियतम,

आख़िर मुझे क्या समझते हो तुम ? मुझे छोड़ कर न जाओ, प्रिय। इस कपटी दिल को अपने समझाओ, प्रिय ।

ओ देखो न, तुम्हारे प्रति मेरे मन में बुरी तरह से प्यार जाग रहा है ।