भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मैना बोले / अमरेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हो, हो, हे, हे, हो, हो, हूँ
मैना बोलै चीं, चीं, चूँ

कुटुर-कुटुर, कुट मूसां खैलकै
चटर-चटर, चट बिल्ली पीलकै
दूध कटोरी में छै मूँ
मैना बोलै चीं, चीं, चूँ।

कोॅन देश में रात रहै छै
कोॅन देश में निंदिया
भोरे होतै गुटरू गंू
मैना बोलै चीं, चीं, चूँ।

टें, टें करी केॅ सुग्गा सुतलें
में-में करी बकरिया
सुतले झबरौ करी केॅ कूँ
मैना बोलै चीं, चीं, चीं, चूँ।

चौकेॅ नै, सुत नूनू सुत
निंदिया रानी बगले ठाढ़ी
मन्तर मारौ फूँ, फूँ, फूँ
मैना बोलै चीं, चीं, चूँ।