भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मैया के भुवन मे हरे चदन बिरछा / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मैया के भुवन में हरे चंदन बिरछा
लंगुरा डार कटाय हो मां
हँस-हँस पूंछे देवी जालपा काहे की
खातिर कटाये हो मां।
मैया खों तो कइये मां चदन पलकियां
मड़खों बजर किवार हो मां। मैया...
उठा पलंगवा बीरा लंगुरवा
डारे बढ़ई की दुकान हो मां। मैया...
बढ़ई तो कइये चतुर सुजार
जो रुचि-रुचि पलंग बनाये हो मां। मैया...