भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैया कैसी मनोहर गलिया सजी है / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मैया कैसी मनोहर गलियां सजी हैं
देखो सुनार लये, नथनी खड़ो हैं।
नथुनी में हीरे की कनियां लगी हैं। मैया...
देखो बजाज लये, चुनरी खड़ो है।
अरे चुनरी में गोटे की छड़ियां पड़ी हैं। मैया...
देखो माली लये, हार खड़ो है,
हार में चम्पे की कलियां लगी हैं। मैया...
देखो यात्री मोहन भोग लये हैं,
भोग में मिश्री की डरियां पड़ी हैं। मैया...