भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैया दौड़ी आवें अँगना अन्हार लागै / जयप्रकाश गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैया दौड़ी आवें अँगना अन्हार लागै
अन्हार लागै हमरा डोॅर लागै

जबेॅ तोहें ऐवै मैया सब कॅ जगैवै हे
शांति केरोॅ साज पर देश-गीत गैवै हे
हमरा देशोॅ केरोॅ आशॉ साकार लागै

घरोॅ द्वारी मैया जागरण फूल लगैवै हे
हिमालारोॅ गोदी में हम्में जिनगी बितैवै हे
हमरोॅ जिनगी के यही सुख-सार लागै
उत्तर के सुरभि मैया पूरब बारात हे
पश्चिम के आरती दक्षिण परात हे
मैया अँचरा में बसलोॅ संसार लागे