भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मै बंजारो हरि नाम को / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

    मै बंजारो हरि नाम को,
    आरे लेतो हरि जी को नाम

(१) गगन मंडल में घर तेरा,
    आरे भवसागर मे दुकान
    सौदागीर सौदा करी रया
    मस्त लगी रे दुकान...
    मै बंजारो...

(२) मन तुम्हारी ताकड़ी,
    आरे तन है तेरो तीर
    सुरत मुरत सी तोलणा
    मन चाहे को मोल...
    मै बंजारो...

(३) लुम लहेर नदिया बहे,
    आरे बहे अगम अपार
    धर्मी कर्मी रे पार हुई गया
    पापी डूबे मझधार...
    मै बंजारो...

(४) कहत कबीर धर्मराज से,
    आरे साहेब सुण लेणा
    सेन भगत जा की बिनती
    राखो चरण आधार...
    मै बंजारो...