भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मोजा पेरो, मोजा पेरो, मोजा पैरो राज / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मोजा पेरो, मोजा पेरो, मोजा पैरो राज
मोजा ऊपर मेंदी सोये
पेरण री चतराई
हो म्हारा रंगीला जमाई
थाने गाल गावां राज
गाल गावां, गीत गावां
इना कररन्यां लाड़ जी
म्हारो बई से टेढ़ा बोलो
यां पर आवे रीस हो
म्हारा खांतीला जमई
थाने गाल गावां राज।
आप लापर, बाप लापर
लापर सोई परवार जी
काका-काकी वे बी लापर
जेका भतीजा आप हो
मामा-मामी वे बी लापर
जेका भाणेज आप ही
भाई-भाभी वे बी लापर
जेका भाई आप हो
बूवा-फूफा वे बी लापर
जेका भतीजा आप हो
बेन-बेनोई वे बी लापर
जेका साला आप हो
मावसी-मावसा वे बी लापर
जेका भतीजा आप हो
आजा-आजी वे बी लापर
जेका नात्या आप हो
माय-बाप वे बी लापर
जेका जामा आप हो
जामा पेरो, जामा पेरो, जामा पेरो राज।
जामा ऊपर सोना सोहे
पेरण री चतराई
हो म्हारा लिखन्दा जमई
पटका ऊपर हुलमन सोवे
पेरण री चतराई
हो म्हारा हंसालू जमाई
कंठी ऊपर डोरा सोहे
पेरण दी चतुराई
हो म्हारा रिसाकू जमाई
पागां ऊपर बेचां सोवे
हो म्हारा छबीला जमाई
तेजी ऊपर चाबुक सोवे
बैठण री चतूराई
हो म्हारा प्यारा जमाई
कड़ा ऊपर पोंची मोवे
मोती ऊपर चूनी सोवे
हो म्हारा नखराला जमाई