भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मोतिया का बिरझै दुलेरूआ / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मोतिया का बिरझै दुलेरूआ आजी हीरा मोती लेबइ हो
आजा उनके धई झिकझोरइ आजी हृरदइ लगाबई हो
आवा ललन मोरी कनिया मैं हीरा मोती देइहौं हो
मोतिया का बिरझे दुलेरूआ माया हीरा मोती लेबइ हो
बाबू उनके धई झिकझोरइ माया हृरदइ लगावई हो
आवा ललन मोरी कनिया तौ हीरा मोती देबई हो
मोतिया का बिरझे दुलेरूआ आजी हीरा मोती लेबई हो
काका उनके धई झिकझोरइ माया हृरदइ लगावई हो
आवा ललन मोरी कनिया तो हीरा मोती देबइ हो।