भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मोय ब्रज बिसरत नैया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मोय ब्रज बिसरत नैयां,
सखी री मोय तो ब्रज बिसरत नैयां।।
सोने सरूपे की बनी द्वारिका,
गोकुल जैसी छवि नइयां।
मोय सखी...
उज्जवल जल जमुना की धारा,
बाकी भांति जल नैयां।
मोय सखी...
जो सुख कहियत मात जशोदा,
सो सुख सपने नैयां।
मोय सखी...