भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मोरी बिनती सुनो महरानी भवानी बिनती सुनो... / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मोरी बिनती सुनो महरानी भवानी। बिनती सुनो...
कष्ट निवारो संकट काटो,
दुख टारो महरानी भवानी बिनती सुनो। बिनती सुनो...
कितने भक्त हैं तारे तुमने,
मोह तारो महरानी भवानी। बिनती सुनो...
ना हम जाने आरती पूजा,
ना भक्ति महरानी भवानी। बिनती सुनो...
कैसे तुम्हारे दरशन पाऊं,
कैसे चरण दबाऊं महरानी। बिनती सुनो...
अपनी शक्ति दिखाओ मैया,
शरण तुम्हारे आऊँ भवानी। बिनती सुनो...