भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मोहब्बत ख़ब्त है या वसवसा है / 'रसा' चुग़ताई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मोहब्बत ख़ब्त है या वसवसा है
मगर अपनी जगह ये वाक़िआ है

जिसे हम वाहेमा समझे हुए हैं
वो साया भी तिरी दीवार का है

मकाँ सर-गोशियों से गूँजते हैं
अँधेरा रौज़नों से झाँकता है

दर ओ दीवार चुप साधे हुए हैं
फ़क़त इक आलम-ए-हू बोलता है

मिरी आँखों पे ऐनक दूसरी है
कि ये तस्वीर का रूख़ दूसरा है

सुना है डूबने वाले ने पहले
किसी का नाम साहिल पर लिखा है

गुज़र किस का हुआ है जो अभी तक
दो-आलम आइना-बर-दार सा है

यु दुनिया मिट गई होती कभी की
मगर इक नाम ऐसा आ गया है

मोहब्बत है ‘रसा’ मेरी इबादत
ये मेरा दिल मिरा दस्त-ए-दुआ है