भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मोहब्बत में आया है तन्हा अभी रंग / इन्दिरा वर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मोहब्बत में आया है तन्हा अभी रंग
 बदलने लगी है मगर ज़िंदगी रंग

 बहारों के आँचल में ख़ुश-बू छुपी है
 गुलों की क़बा में भरे हैं सभी रंग

 तुम्हारे बिना सब अधूरे हैं जानाँ
 सबा फूल ख़ुश-बू चमन रौशनी रंग

 जो भूले से बचपन में पकड़ी थी तितली
 सुरूर-ए-वफ़ा में भी उतरा वही रंग

 न जाने कहाँ से बरसती है बारिश
 सजाती है तेरे अगर दिल-बरी रंग

 मिले 'इंदिरा' मेरा पैग़ाम उन को
 लिए है मुकम्मल मेरी शाएरी रंग