भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मोहि न भावै नैहरवा ससुरबा जइबों हो / दरिया साहेब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मोहि न भावै नैहरवा ससुरबा जइबों हो।।
नैहर के लोगवा बड़ अरिआर। पिया के बचन सुनि लागेला बिकार।।
पिया एक डोलिया दिहल भेजाय। पाँच पचीस तेहि लागेला कहाँर।।
नैहरा में सुख दुख सहलों बहुत। सासुर में सुनलों खसम मजगूत।।
नैहर में बारी भोली ससुरा दुलार। सत के सेनुरा अमर भतार।।
कहे दरिया धन भाग सोहाग। पिया केरि सेजिया मिल बड़ भाग।।