भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मोह न छोड्यो मोर महतारी / अवधी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मोह न छोड्यो मोर महतारी

एक कोखि के भैया बहिनिया
एकहि दूध पियायो महतारी
मोह न...

भैया के भए बाजै अनद बधैया
हमरे भए काहे रोयो महतारी ?
मोह न...

भैया का दिह्यो मैया लाली चौपरिया
हमका दिह्यो परदेस महतारी
मोह न...

सँकरी गलिय होई के डोला जो निकरा
छूटा आपन देस महतारी
मोह न...