भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मौत से था डर जिन्हें सब घर गए / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मौत से था डर जिन्हें सब घर गए।

क्या पता ज़िन्दा बचे या मर गए।

हारने वाले शरीक़े जंग है जीतने वाले उधर डर कर गए।

थी वजह कोई हुए मुजरिम फ़रार जेल में उठते हुए कुछ सर गए।

सर फ़लक लौटा दिये सरकार ने मुफ़्त में इन पंछियों के पर गए।

लीजिए अब खेल का खुलकर मज़ा कुछ नियम मैदान से बाहर गए।

खून ताज़ा ज़ख्म का मरहम हुआ ज़ख्म थे जितने पुराने भर गए।

वो ग़ज़ल जो कह न पाएँगे कभी नस्ले नौ के नाम उसको कर गए।