भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मौन है टूटा सितारा / छाया त्रिपाठी ओझा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काश बहती ही रहे ,
इन आँसुओं की तरल धारा ।
डूबते राही को जब तक
ना मिले कोई किनारा ।

व्यस्त है सारा जहाँ यह
चाह अब किसको किसे है !
सो रहा सुख कोठियों में
पांव दुख अपना घिसे है !

चाँदनी सबको लुभाती,
मौन है टूटा सितारा ।

जानती हूँ मैं धरा की
ये पुरातन रीतियाँ हैं !
हर विजेता की यहाँ पर
चल रहीं बस नीतियाँ हैं !

कौन उसके पास जाता,
जिन्दगी में जो है हारा ।

पर न जाने क्यों हृदय भी
दर्द से विक्षिप्त है अब !
लग रहा मन भी किसी
संकल्प से उद्दीप्त है अब !

दुर्दिनों में रह गई हूँ
मैं अकेली-बेसहारा।