भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मौसम आया पानी का / लाला जगदलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बादल गरजे, धूम मची,
गरमी बीती जान बची,
आँखों में हरियाली है,
बातों में खुशहाली है,
बूँदों का स्वर ऐसा है,
जैसे गुड्डी रानी का!
मौसम आया पानी का!

सँभले पाँव किसानों के,
बदले गाँव किसानों के,
चहल-पहल है खेतों में,
जल ही जल है खेतों में,
धरती ऐसे भीज गई है,
जैसे आँचल नानी का!
मौसम आया पानी का!