भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मौसम जैसे जब सजता है / प्रताप सोमवंशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मौसम जैसे जब सजता है
दिल अंदर तक खिल उठता है

मेरे चेहरे की पुस्तक को
पढ़-पढ़ के लिखता रहता है

अपना एक पता ये रख लो
मेरे दिल में तू बसता है

दिल का गुलशन महक उठा है
जिस पल तू हंसने लगता है

चिठ्ठी भारी हो जाती है
कागज कोरा जब रखता है