भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म्हनै आपरी थां कद जाणी / अशोक जोशी 'क्रान्त'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हनै आपरी थां कद जाणी
जुग तो जाणी थां कद जाणी।

मन रा काळा तन रा उजला
पीड़ मांयली थां कद जाणी।

रेळौ रळिया रळ जावैला
आ! जि़ंदगाणी थां कद जाणी।

रंग-रस आछा रंग रा खेला
रंगत मन री थां कद जाणी।

फगत पगरखी जाण वापरी
घर री लिछमी थां कद जाणी।