भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म्हानै याद है / अजय कुमार सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थारै मुंडै माथै
लाग्योड़ा दियाळी री
मिठाई रा भोरा
म्हानै
आज भी
याद है
पण
थे म्हानै
अजे तांई
मिठाई
नीं खुवाई नीं !