भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म्हारा माथा की बिंदी-म्हारा कपाळ खऽ लगऽ / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

म्हारा माथा की बिंदी-म्हारा कपाळ खऽ लगऽ।
बिन्दी हेड़ डब्बी मेल, फिरी पेरजे ओ मिरगा नयनी।।
थारा माथा की बेसर म्हारी दाड़ी मऽ लगऽ।
बेसर हेड़ डब्बी मेल, फिरी पेरजे ओ मिरगा नयनी।।
थारा गला की तागली म्हारी छाती मऽ लगऽ।
तागली हेड़ खूटी मेल, फिरी पेरजे ओ मिरगा नयनी।।
थारा हाथ का बाजूबन्द म्हारी, पूट मऽ लगऽ।
बाजूबन्द हेड़ आलऽ मेल, फिरी पेरजे ओ मिरगा नयनी।।
थारी कड़ी को कदरा, म्हारी कम्मर मऽ लगऽ।
कदरो हेड़ उस्य ऽ मेल फिरी पेरजे ओ मिरगा नयनी।।
थारा पांय का कड़ा म्हारा पांय मऽ लगऽ।
कड़ा हेड़ पायतऽ मेल, फिरी पेरजे ओ मिरगा नयनी।।