भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

म्हारा हरिया ए जुँवारा राज / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हारा हरिया ए जुँवारा राज कि लाँबा-तीखा सरस बढ्या,
 म्हारा हरिया ए जुँवारा राज कि गँऊ लाल सरस बढ्या,
 गोर-ईसरदासजी का बाया ए क बहु गोरल सीँच लिया,
 गोर- कानीरामजी का बाया ए क बहु लाडल सीँच लिया,
भाभी सीँच न जाणोँ ए क जो पीला पड गया,
 बाइजी दो घड सीँच्या ए क लाँबा-तीखा सरस बढ्या,
 म्हारो सरस पटोलो ए क बाई रोवाँ पैर लियो,
 गज मोतीडा रो हारो ए क बाई रोवाँ पैर लियो,
 म्हारो दाँता बण्या चुडलो ए क बाई रोवाँ पैर लियो,
 म्हारो डब्बा भरियो गैणोँ ए क बाई रोवाँ पैर लियो,
 म्हारी बारँग चूँदड ए क बाई रोवाँ ओढ लेई,
 म्हारो दूध भरयो कटोरो ए क बाई रोवाँ पी लियो,
बीरा थे अजरावण हो क होज्यो बूढा डोकरा,
 भाभी सैजाँ मेँ पोढो ए क पीली पाट्याँ राज करे।