भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म्हारी पीड़ री वां’नैं खबर लागै / जोगेश्वर गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उडीकूं रोज… , म्हारी पीड़ री वां’नैं खबर लागै
मगर मनमीत पर म्हारै दुशमणां रौ असर लागै
भंवर सूं पार उतरूं म्है जे था’रौ हाथ हाथां में
बिछोड़ा जद हुया था’सूं  ; किनारो भी भंवर लागै
कसमसावै घणा वे लोग सिंघासण पलंगां पर
बबूली छांव में म्हांनैं छतर लागै चंवर लागै
भर्’या भण्डार जद घर में ; संतरी सांतरा राखै
लुट गया माल मत्ता तो न भय लागै न डर लागै
मगज ठंडो नज़र नीची सबद मीठा घणा मुश्किल
चढै मद राज रौ बां’नैं मतीरो भी मटर लागै
ज़मीं में ज़हर धोखै रौ , हवा में चापलूसी है
मनां में मैल मिनखां रै… अजूबो औ शहर लागै
शहर में खूब चर्चा है समझ कोनी सकै कोई
न “जोगेश्वर” गयो-गुजर्’यो न “जोगेश्वर” ज़बर लागै