भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म्हैं जुवार रो पाणी / रचना शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं जुवार रो पाणी
मेल‘र कनार माथै
दो-च्यार रूप री कोड़्यां
अर दो-च्यार राग रा संख
पाछी बावड़ जास्यूं
जठै सूं आईं
उण विराट रै भीतर
पण ले जास्यूं
थारै हियै रो मैल
धोय पूंछ‘र।