भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म आँखैमा राखिने योग्य कहाँ छु / शरण प्रधान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म आँखैमा राखिने योग्य कहाँ छु
मलाई सम्झी टिठ्याउने योग्य कहाँ छु
म भूल हुँ सुधारिने योग्य कहाँ छु
म आँखैमा राखिने योग्य कहाँ छु

कुनै दिन जब म सबैलाई रिझाएँ
त्यहीं म किन आज सबलाई बिझाएँ
म मान्छे हुँ मान्छेलाई माया चाहिन्छ
मेरो जीवनलाई पनि साथी चाहिन्छ
तर साथी बन्ने म योग्य कहाँ छु
कसैको माया पाउने योग्य कहाँ छु

म भूल हुँ सुधारिने योग्य कहाँ छु
म आँखैमा राखिने योग्य कहाँ छु

उदास मेरो मुहारमा मुस्कान जटेन
ऐनामा म हाँस्ता आफैंलाई चिनिन
दुखको उदाहरण मेरै जीवन होइन
खुसीमा म मेरो अधिकार नै छैन
यी प्रश्न उठाउने म योग्य कहाँ छु
कसैको माया पाउने योग्य कहाँ छु

म भूल हुँ सुधारिने योग्य कहाँ छु
म आँखैमा राखिने योग्य कहाँ छु