भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यक़ीं से जो गुमाँ का फ़ासला है / ताबिश कमाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यक़ीं से जो गुमाँ का फ़ासला है
ज़मीं से आसमाँ का फ़ासला है

हवा-पैमाई की ख़्वाहिश है इतनी
कि जितना बादबाँ का फ़ासला है

ख़यालात इस क़दर हैं मुख़्तलिफ़ क्यूँ
हमारे दरमियाँ का फ़ासला है

कोई इज़हार कर सकता है कैसे
ये लफ़्ज़ों से ज़बाँ का फ़ासला है

मैं उस तक किस तरह पहुँचूँगा ‘ताबिश’
यहाँ से इस जहाँ का फ़ासला है