भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यदि मुझे मधुरतम प्यार मिले तो जानूँ / बलबीर सिंह 'रंग'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यदि मुझे मधुरतम प्यार मिले तो जानूँ।
मेरे मन का संसार मिले तो जानूँ॥
जीवन में सबको प्यार नहीं मिता है,
आशंकाओं में प्यार नहीं पलता है;
साधना हीन इच्छाओं की आँधी में-
जीवन भर आशा दीप नहीं जलता है।
रवि ने कब पाया रजत-निशा का चुम्बन?
शशि ने कब देखा है निदाघ का जीवन?
कहने को तो उपदेश मुझे भी आता-
कुछ करने का अधिकार मिले तो जानूँ।

कल्पना सदा साकार नहीं होती है,
याचना कभी अधिकार नहीं होती है;
कटु सत्य-सिंधु के भीषण तूफानों में-
सपनों की नौका पार नहीं होती है।
लहरें मिलती हैं, गति के उलझाने को,
तट मिलते हैं,रह-रह कर टकराने को;
भर सके मुझे, निज भँवर-भुजाओं में जो-
वह अति-उदार-मँझधार मिले तो जानूँ।

तारों को तजकर राग अमर होता है,
रागों को तजकर त्याग अमर होता है;
मधुमयी मिलन वेला को तजकर ही तो-
विरही मन का अनुराग अमर होता है।
है गाने का आधार आह का रोना,
है पाने का आधार चाह का खोना;
मैं इन सब का आधार जानता हूँ पर-
मुझको मेरा आधार मिले तो जानूँ।

यदि मुझे मधुरतम प्यार मिले तो जानूँ।
मेरे मन का संसार मिले तो जानूँ॥