भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यहाँ की दुनिया / नरेश अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बच्चा अभी-अभी स्कूल से लौटा है
खड़ा है किनारे पर
चेहरे पर भूख की रेखाएँ
और बाहों में माँ के लिए तड़प ।

माँ आ रही हैं झील के उस पार से
अपनी निजी नाव खेती हुई
चप्पू हिलाता है नाव को
हर पल वह दो क़दम आगे बढ़ रही

बच्चा सामने है
दोनों की आँखें जुड़ी हुई
ख़ुशी से हिलती है झील
हवा सरकती है धीरे-धीरे

किसी ने किसी को पुकारा नहीं
वे दोनों निकल चले आए ठीक समय पर
यही है यहाँ की दुनिया ।