भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह जीवन है बाँसुरी / त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह जीवन है बाँसुरी, खाली खली मीत।
श्रम से इसे संवारिये, बजे मधुर संगीत॥
बजे मधुर संगीत, ख़ुशी से सबको भर दे।
थिरकेँ सब के पाँव, हृदय को झंकृत कर दे।
'ठकुरेला' कविराय, महकने लगता तन मन।
श्रम के खिलें प्रसून, मुस्कराता यह जीवन॥